WhatsApp Status in Hindi (हिंदी में)

इतने मधुर न हो की लोग आपको निगल लें ,
इतने कटु भी नहीं की वो आपको उगल दें !

अगर मालूम होता इश्क़ यूँ मजबूर कर देगा …,
बहुत पहले ही इस आफत से तौबा कर चुके होते

सब भूल जाता हु आपके सिवा , यह क्या मुझे हुआ है
क्या इसी एहसास को दुनिया ने प्यार का नाम दिया है.

वक़्त अच्छा हो तो अपनी गलती भी मज़ाक लगती हैं
अगर वक़्त ख़राब हो तो मज़ाक भी गलती बन जाती हैं

कुछ और काश लगा ले ऐ ज़िन्दगी ,
बुझ जाऊंगा किसी रोज़ सुलग़ते सुलग़ते

जिसकी सज़ा सिर्फ तुम हो ,मुझे ऐसा कोई गुनाह करना हैं …

वो ‘मिली भी तो सिर्फ खुद के दरबार में ,
अब तुम ही बताओ यारों हम इबादत करते या मोहब्बत .

मैं क्यों पुकारू उसे की लौट आओ ,क्या उसे खबर नहीं की कुछ नही मेरे पास उसके सिवाए ..

तू मोहब्बत है मेरी इसलिए दूर है मुझसे ,
अगर ज़िद्द होती तो शाम तक बाँहों में होती .

गुमान न कर अपनी खुश -नसीबी का ,
खुद ने अगर चाहा तो तुझे भी इश्क़ होगा

लगता है माँ -बाप ने बचपन में खिलोने नहीं दिलाये
तभी तो बड़ी होकर पगली हमारे दिल से ही खेल गयी

अजब ज़ुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पे .
सो जाऊं तो उठा देती है जाग जाऊं तो रुला देती है

न जाने क्या साजिश बदलो की दरमियान हुई ,
मेरा घर मिटटी का है , मेरे घर पे ही बारिश हुई

मौसम की मिसाल दू या तुम्हारी ,सवाल उठा है बदलना किसे कहते हैं ….

आग लगाना मेरी फितरत में नहीं
पर लोग मेरी सादगी से ही जल जाये उसमे मेरा क्या कसूर

लोग कहते है की मोहब्बत एक बार होती हैं ,
लेकिन मैं जब जब उसे देखूं मुझे हर बार होती है ..

मेरी नज़र से कभी खुद को देखना , तुम खुद ही खुद पे फ़िदा हो जाओगे

अगर कसमें सच्ची होती तो सबसे पहले खुद मरता

जी भर गया है तो बता दो ,हमे इंकार पसंद है इंतज़ार नहीं .

मेरे लफ्ज़ भी खामोश है , उसकी ख़ामोशी भी बोलती है

मेरी ख़ुशी के लम्हे मुख्तसर हैं इस कदर
गुज़र जाते हैं मेरे मुस्कुराने से पहले

इश्क़ की पतंगे उड़ाना छोड़ दी
वरना हर हसीनाओं की छत पर हमारे ही धागे होते

कुछ इसलिए भी मैंने उसे जाने से नहीं रोक ,
क्यों की जाता ही क्यों अगर मेरा होता

Posted in